चिट्ठी विवाद के बाद कांग्रेस में बड़ा फेरबदल:गुलाम नबी आजाद का कतरा गया पर,तारिक़ को मिली तरक़्क़ी

0
240

नई दिल्ली(मंथन डेस्क)शुक्रवार को कांग्रेस में बड़ा संगठनात्मक फेरबदल किया गया. चिट्ठी विवाद के बाद गुलाम नबी आजाद का पर कतर दिया गया है.से महासचिव पद से उनकी छुट्टी कर दी गयी है.कांग्रेस के 23 नेताओं ने पिछले दिनों पार्टी नेतृत्व को लेकर चिट्ठी लिखी थी. इसके बाद अब पार्टी में बड़ा फेरबदल किया गया है.इस फेरबदल में सबसे बड़ा फायदा राहुल गांधी के वफादार रणदीप सिंह सुरजेवाला को हुआ है.सुरजेवाला अब कांग्रेस अध्यक्ष को सलाह देने वाली उच्च स्तरीय छह सदस्यीय विशेष समिति का हिस्सा हैं.इसके साथ ही सुरजेवाला को कांग्रेस का महासचिव भी बनाया गया है. उन्हें कर्नाटक का प्रभारी बनाया गया है.तारिक़ अनवर की भी तरक़्क़ी हुई है.उन्हें महासचिव पद के साथ केरल और लक्षद्वीप की भी ज़िम्मेदारी दी गयी है.कांग्रेस महासचिवों में मुकुल वासनिक को मध्य प्रदेश की, हरीश रावत को पंजाब की, ओमान चांडी को आंध्र प्रदेश की, जितेंद्र सिंह को असम की, अजय माकन को राजस्थान की जिम्मेदारी दी गई है.प्रियंका गांधी उत्तरप्रदेश की प्रभारी बनी रहेंगी.इसके अलावा जितिन प्रसाद को कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह का प्रभारी बनाया है. संगठन में यह उनके लिए बड़ी उछाल मानी जा रही है. बता दें कि विवादास्पद चिट्ठी पर दस्तखत करने वाले नेताओं में जितिन प्रसाद भी थे.

पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कांग्रेस वर्किंग कमिटी (CWC) को पुर्नगठित किया है. साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष के सहयोग के लिए छह नेताओं की एक कमिटी भी बनाई गई है. इसके साथ ही कई राज्यों के प्रभारी बदले गए हैं और कांग्रेस में संगठन चुनाव करवाने वाले केंद्रीय चुनाव प्राधिकार को भी पुनर्गठित किया गया है.कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की मदद के लिए विशेष कमिटी बनी है. एके एंटनी, अहमद पटेल, अम्बिका सोनी, वेणुगोपाल, मुकुल वासनिक और रणदीप सुरजेवाला इसके सदस्य बनाए गए हैं.चिट्ठी लिखने वाले नेताओं में शामिल भूपेंद्र सिंह हुड्डा, कपिल सिब्बल, शशि थरूर, मनीष तिवारी का नाम किसी भी लिस्ट में नहीं है. सचिन पायलट का नाम भी नदारद है.दिग्विजय सिंह की भी वापसी हुई है और उन्हें सीडब्ल्यूसी का स्थाई आमंत्रित सदस्य बनाया गया है. सलमान खुर्शीद, जयराम रमेश, राजीव शुक्ला, पवन बंसल जैसे नेता भी स्थाई आमंत्रित सदस्य बनाए गए हैं.वयोवृद्ध नेता मोतीलाल वोरा की विदाई हो गई .कांग्रेस के केंद्रीय चुनाव प्राधिकार का अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री को बनाया गया है. अरविंदर सिंह लवली समेत चार अन्य नेता इसके सदस्य बनाए गए हैं. गौरतबल है कि लवली भी चिट्ठी लिखने वाले नेताओं में शामिल थे.कुल मिलाकर सोनिया गांधी की नई टीम में उनके पुराने विश्वासपात्रों के साथ-साथ राहुल गांधी के भरोसेमंद नेताओं को भरपूर जगह मिली है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here