मानवता की मिसाल पेश कर रही इमारत ए शरिया

0
248

*मुस्लिम धार्मिक संस्था की ओर से मजबूर- परेशान लोगों के बीच किया जा रहा राहत सामग्री का वितरण

*धार्मिक भेदभाव से ऊपर उठकर मानवता की सेवा बेहतरीन इबादत : मौलाना शिबली

फुलवारी शरीफ(शाद हुसैन)कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कहर बरपा रखा है, हर कोई डर व दहशत में है, भारत सरकार ने इस घातक वायरस से बचाव के लिए लॉकडाउन का आदेश दिया है, जिसकी पाबंदी करना और अपने आप की रक्षा करना सभी लोगों के लिए एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते आवश्यक है, लाकडाउन के कारण लाखों गरीब और मजदूर भुखमरी की कगार पर पहुंच गए हैं.ऐसी स्थिति में तीन राज्यों बिहार, झारखंड और उड़ीसा के मुसलमानों की सबसे बड़ी धार्मिक संस्था इमारत ए शारिया जरूरतमंदों की मदद में खड़ी हो गयी है.

इमारत ए शारिया के विभिन्न उप-कार्यालयों और पटना के विभिन्न क्षेत्रों में राहत कार्य बड़े पैमाने पर चल रहा है.काज़ी साहिबान ,जिले और ब्लॉक के अध्यक्ष व सचिव और नकीब ने गरीब और परेशान लोगों के लिए राहत का कार्य हज़रत अमीर ए शरीयत मौलाना मोहम्मद वली रहमानी के निर्देशानुसार शुरू किया गया है.इमारत ए शरिया हर अवसर पर बिना किसी मतभेद के मानवता के आधार पर सेवा करती रही है, यह बातें इमारत ए शरिया के कार्यवाहक नाज़िम मौलाना मोहम्मद शिबली अल क़ासमी का कहना है.

उन्होंने कहा कि इमारत ए शरिया के मुख्यालय फुलवारी शरीफ पटना की ओर से फुलवारी शरीफ के विभिन्न क्षेत्रों में व्यापक रूप से राहत प्रदान किया जा रहा है.डब्ल्यू एच ओ और सरकार की ओर से जारी सर्कुलर पर सम्पूर्ण अमल करते हुए स्थानीय पुलिस निरीक्षक और अन्य पुलिस अधिकारियों के साथ धार्मिक भेदभाव से ऊपर उठकर दैनिक श्रमिक,रिक्शा चालक, गरीब और शेडुल ट्राईब के लोगों के बीच जाकर स्वयं इमारत ए शरिया पूरी सावधानी के साथ लोगों के बीच राहत सामग्री के वितरण करने में जुटी है.साथ ही वे सज्जन जो मांगने से बचते हैं, ऐसे लोगों की पहचान करके उनके घरों में चुपचाप राहत के सामान पहुंचाने की पूरी व्यवस्था की जा रही है.अबतक फुलवारी शरीफ के विभिन्न क्षेत्रों में हजारों अफराद को सहायता का सामान मुहय्या कराया जा चुका है , और यह सिलसिला जारी रहेगा .इमारते शरिया प्राथमिकता के आधार पर शेड्यूल ट्रैब, शेड्यूल कास्ट और अन्य लोगों के बीच खाद्य वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है कि लाकडाउन के कारण पूरे देश में गरीब और दैनिक मजदूरी करने वाले की स्थिति बिगड़ रही है .इस कारण समाज के सभी अमीर लोगों को आगे आना चाहिए, क्योंकि मानवता की सेवा करना अच्छी इबादत है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here