ख़ानक़ाह ए चिश्तिया नवादा की पहल भूखों के बीच किया जा रहा राशन वितरण

0
53

नवादा(बुद्धसेन)भूखों को खाना खिलाना,परेशान हाल लोगों की मदद करना और किसी का दिल न दुखे,इसका ख़्याल रखना सबसे बड़ी इबादत है जिस का बदला केवल ईश्वर प्रदान करते हैं.

नवादा ज़िला की प्राचीन सूफ़ी संस्था ‘ख़ानक़ाह ए चिश्तिया के गद्दीनशीं हज़रत मौलाना ऐन उद्दीन चिश्ती ने लाचार और निर्धन लोगों की सहायता में संलग्न स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए यह बातें कहीं और कहा कि इस्लाम में परोपकार का महत्व सर्वोपरि है और इस आपदा से प्रभावित सभी लोगों की बिना किसी भेद भाव के पूरी मदद करनी चाहिए.

इस ख़ानक़ाह की ओर से नरहट प्रखंड के विभिन्न गाँव-टोलों में दिहाडी मज़दूरों,रिक्शा चालकों विशेषकर विधवा महिलाओं को चावल,दाल,आलू प्याज़ आदि के पैकेट का वितरण किया जा रहा है जिस में एक दर्जन नौजवान दिन -रात राशन बांटने में लगे हुए हैं.

इस टीम के कोडीनेटर रज़ी हैदर के साथ ही सबा अहमद,अली अकबर,राशिद अहमद,मो.चांद,वसीम अकरम,दानिश अहमद,अफ़सर अली,सलमान चिश्ती,नाज़िश अहमद,नोमान आरिश तथा मेहरान चिश्ती पूरी तत्परता के साथ कोरोना वायरस से बचाव के लिए जागरूकता फैलाने तथा गाँव महल्लों को सेनेटाईज़ करने में लगे हुए हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here