मन की बात में मोदी ने मांगी माफी कहा:आपकी दिक़्क़तें समझता हूं

0
59

*अपनी जिंदगी से खिलवाड़ करें .

* कोरोना हर कोई को चुनौती दे रहा है

* लॉकडाउन आपके खुद के बचने के लिए है.

नई दिल्ली(जिया) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मन से माफी मांगी.उन्होंने विशेषकर ग़रीबों से क्षमा मांगी है.प्रधानमंत्री ने कहा ,सबसे पहले मैं सभी देशवासियों से क्षमा मांगता हूं और मेरी आत्मा कहती है की आप मुझे जरुर क्षमा करेंगे, क्योंकि कुछ ऐसे निर्णय लेने पड़े हैं, जिसकी वजह से आपको कई तरह की कठिनाईयां उठानी पड़ रही हैं. देश में जानलेवा कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश सेमन की बातकी. उन्होंने कहा, बहुत से लोग मुझसे नाराज भी होंगे कि ऐसे कैसे सबको घर में बंद कर रखा है. मैं आपकी दिक्कतें समझता हूं, आपकी परेशानी भी समझता हूं, लेकिन भारत जैसे 130 करोड़ की आबादी वाले देश को, कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए, ये कदम उठाए बिना कोई रास्ता नहीं था.

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस इंसान को मारने की जिद ले बैठा है. उन्होंने कहा कि लॉक डाउन आपको बचाने के लिए लगाया गया है.वे समझते हैं कि कोई भी जान बूझकर कानून नहीं तोड़ना चाहता है. लेकिन कुछ लोग ऐसा कर रहे हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि वे ऐसे लोगों से कहना चाहते हैं कि अगर वे लॉकडाउन का पालन नहीं करते हैं तो इस बीमारी का पालन करना मुश्किल होगा. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन को मानने वाले लोग अपनी जिंदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं.

प्रधानमंत्री ने जनता से अपील की कि वह लॉकडाउन का पालन करके खुद को और अपने परिवार को कोरोना संक्रमण से बचाएं.देश में 21 दिनों का लॉकडाउन है.प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस ने दुनिया को कैद कर दिया है. ये ज्ञान, विज्ञान, गरीब, संपन्न कमजोर, ताकतवर हर किसी को चुनौती दे रहा है. ये ना तो राष्ट्र की सीमाओं में बंधा है, ही ये कोई क्षेत्र देखता है और ही कोई मौसम.

कुछ लोगों को लगता है कि वो लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं तो ऐसा करके वो मानो जैसे दूसरों की मदद कर रहे हैं, ये भ्रम पालना सही नहीं है. ये लॉकडाउन आपके खुद के बचने के लिए है. आपको अपने को बचाना है, अपने परिवार को बचाना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here