इतिहास रचने से चूक गयीं निर्मला सीतारमन;बजट से जनता को मायूसी हाथ लगी:सीमाब

0
48

Patna:पत्रकार और ऐक्टिविस्ट सीमाब अख़्तर का कहना है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन के पास पिछली एक दशक का सबसे महत्वपूर्ण बजट पेश करने का सुनहरा मौका था, लेकिन हुआ वही जिसकी तरफ विपक्षी दलों ने इशारा किया था, सकल घरेलू उत्पाद के तेज़ी से गिरने की वजह से सरकार का राजस्व काफ़ी गिर चुका था, उसी पे फ़ोकस किया है, वर्ना इस बजट में तो जनता को मार ही पड़ी है, हर बजट में आम से ख़ास लोगों को ध्यान में रखा जाता है, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ, मेरे विचार से तो जनता को मायूसी हाथ लगी है.एक सदी के सबसे महत्वपूर्ण बजट के पेश करने में निर्मला को वाह वाही तो हाथ नहीं लगी लेकिन पुरानी बोतल में नई शराब परोस दी गई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here