कोरोना:नेताओं की चिंता कब होंगे चुनाव

0
65

पटना(आचार्या वेदांत)कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से पूरा विश्व इस समय संकट के बहुत बड़े गंभीर दौर से गुजर रहा है .आमतौर पर जब कभी कोई प्राकृतिक संकट आता है तो वो कुछ देशों या राज्यों तक सीमित रहता है .लेकिन, इस बार यह पूरी दुनिया के मानव जाति को संकट में डाल दिया है .इस संकट की घड़ी में बिहार की राजनीतिक तापमान को शून्य पर लाकर निहारने के लिए छोड़ दिया है .आम -आवाम हो या राजनेता सबों को अपने-अपने जान बचाने की चिंता है अगर इस अवधि में कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा न होता तो शायद बिहार विधान परिषद की आठ सीटों के चुनाव की सरगर्मी तेज रहती .
बिहार विधान परिषद की शिक्षक व स्नातक निर्वाचन की आठ सीटों के होने वाले चुनाव के लिए प्रत्याशियों का प्रचार-प्रसार और चुनावी दौरा परवान चढ़ा होता .चुनाव अभियान का यह रफ्तार राज्य के 38 में से 30 जिलों के मतदाताओं के बीच चलते रहता .कोसी स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के प्रत्याशियों को सबसे अधिक 14 जिलों में प्रचार – प्रसार करना होगा पर, फिलहाल चुनाव आयोग ने अगले आदेश तक इस पर रोक लगा रखी है .फिर भी संभावित प्रत्याशी संचार माध्यमों से जंग जीतने की कोशिश में जूटे हैं .
कोसी स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के अलावा पटना स्नातक, तिरहुत स्नातक और दरभंगा स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के चुनाव होना है .इसके अलावा पटना शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र, सारण शिक्षक निर्वाचन, तिरहुत शिक्षक निर्वाचन और दरभंगा शिक्षक निर्वाचन का चुनाव होना है .इस बार के चुनाव में कई सीटों पर नये उम्मीदवारों की संख्या बढ़ने की संभावना है .बिहार विधान परिषद की आठ सीटों का कार्यकाल अगले महीने सात मई को पूरा हो रहा है .शेष राजनीतिक गतिविधियों और अन्य पहलु पर अगले किस्त में आप सुधी पाठकों के समक्ष तथ्यात्मक विश्लेषण रखा जाएगा .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here