बिहारशरीफ में कोरोना जांच रिपोर्ट आने तक ANM ने सर्वे से किया इंकार, कतरीसराय के डॉक्टरों ने भी ड्यूटी छोड़ी

0
195


बिहारशरीफ (डॉ अरुण कुमार मयंक)।बिहारशरीफ सदर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी में कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद पूरे सदर अस्पताल के डॉक्टरों एवं स्वास्थ्यकर्मियों में दहशत का माहौल कायम हो गया है. कल रविवार को चिकित्सा पदाधिकारी समेत चार लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. इसी क्रम में जिले में एएनएम ने डोर-टू-डोर सर्वे करने से इंकार कर दिया है. उनकी मांग है कि जब तक उनकी जांच रिपोर्ट नहीं आ जाती वे सभी सर्वे करने नहीं जाएंगी.

डीएम, एसपी सिविल सर्जन समेत कई पदाधिकारियों की जांच की जा चुकी है. सोमवार से सदर अस्पताल के कर्मी और प्रखंड के कर्मियों की जांच शुरू की गई है. इनमें अब तक 300 लोगों को चिन्हित किया जा चुका है.


बिहारशरीफ के एएनएम ने कहा कि हम लोग अपने चिकित्सा पदाधिकारी के संपर्क में आए हैं और कोरोना वायरस अफेक्टेड एरिया में जाकर सर्वे कर रहे हैं. ऐसे में यह संक्रमण हमें भी हो सकता है. उन्होंने कहा कि कल से हम लोग जांच करवाने के लिए घूम रहे हैं. लेकिन अभी तक हम लोगों की जांच नहीं की गई है. उन्होंने कहा कि किसी एक को भी संक्रमण होने से ये सबमें फैल सकता है. इसलिए रिपोर्ट आने के बाद ही सर्वे का काम शुरू होगा.
वहीं, बिहारशरीफ सदर अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ. उदय कुमार सिंह ने बताया कि अब तक डीएम, एसपी सिविल सर्जन समेत कई पदाधिकारियों की जांच की जा चुकी है. सोमवार से सदर अस्पताल के कर्मी और प्रखंड के कर्मियों की जांच शुरू की गई है. इनमें अब तक 300 लोगों को चिन्हित किया जा चुका है.
बहरहाल प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी में कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद पूरे सदर अस्पताल के कर्मियों में दहशत का माहौल कायम हो गया है. दरअसल, रविवार को चिकित्सा पदाधिकारी समेत चार लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे.

बिहारशरीफ सदर अस्पताल के ए एन एम ने कोरोना जांच रिपोर्ट आने तक डोर-दू-डोर सर्वे से किया इनकार.


राजगीर अनुमंडल के कतरीसराय पीएचसी में भी डॉक्टरों व स्वास्थ्यकर्मियों ने काम से इनकार कर दिया और अस्पताल छोड़कर हुए बाहर निकल गए हैं. वे भी अपनी कोरोना जाँच कराने की मांग कर रहे हैं. बिहारशरीफ पीएचसी के कोरोना पॉजिटिव डॉक्टर के परिजन के यहां पदस्थापित होने के कारण उनके संक्रमित होने का खतरा है. ऐसी हालत में वे अपनी जांच कराए बगैर ड्यूटी नहीं कर सकते हैं. कतरीसराय पीएचसी में डॉक्टरों के काम से इंकार के बाद सभी का जाँच सेम्पल लेने के लिए जिला प्रशासन ने टीम को रवाना किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here